ऑस्ट्रेलिया ने कोविशील्ड को दी मान्यता, भारतीय छात्रों को अभी करना होगा इंतजार

covishield vaccine

कैनबरा। ऑस्ट्रेलिया ने भारतीय वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड को मान्यता दे दी है। ऑस्ट्रेलिया ने आज शुक्रवार को एस्ट्राजेनेका टीके के भारतीय एडिशन कोविशील्ड को अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए ‘मान्यता प्राप्त वैक्सीन’ के रूप में घोषित किया।

ऑस्ट्रेलिया के थेरेप्यूटिक गुड्स एडमिनिस्ट्रेशन (TGA) ने सेफ्टी डेटा का मुल्यांकन करने के बाद भारत की कोविशील्ड और चीन की कोरोनावैक (सिनोवैक) वैक्सीन को “मान्यता प्राप्त टीके” के रूप में सूचीबद्ध किया।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन और कई मंत्रियों द्वारा संयुक्त रूप से जारी एक बयान में कहा गया है कि कोविशील्ड, जिसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा बनाया गया है

और चीनी वैक्सीन कोरोनावैक को आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को उचित रूप से टीकाकरण के रूप में निर्धारित करने के उद्देश्य से ‘मान्यता प्राप्त टीके’ के रूप में माना जाना चाहिए।

बता दें कि इस घोषणा से उन लोगों को मदद मिलने की संभावना है, जिन्होंने कोविशील्ड की खुराक ली है और ऑस्ट्रेलिया की यात्रा करने की सोच रहे हैं।

बता दें कि भारत ऑस्ट्रेलियाई पक्ष पर भारतीय यात्रियों, विशेष रूप से विभिन्न विश्वविद्यालयों और शैक्षणिक संस्थानों में पाठ्यक्रमों में शामिल होने के इच्छुक छात्रों के लिए यात्रा की अनुमति देने के लिए दबाव डालता रहा है।

हालांकि, ऑस्ट्रेलियाई सरकार के बयान से यह संकेत मिलता है कि भारतीय छात्रों को ऑस्ट्रेलिया की यात्रा की अनुमति दिए जाने से पहले कुछ और इंतजार करना होगा।

अधिकारियों ने पहले कहा था कि ऑस्ट्रेलिया में विदेशी छात्रों का प्रवेश 2022 में पहले सेमेस्टर के अंत तक शुरू होने की उम्मीद है।

शुरुआती चरणों में ऑस्ट्रेलियाई सरकार ऑस्ट्रेलियाई परिवारों को फिर से मिलाने के लिए यात्रा की अनुमति देगी ताकि ऑस्ट्रेलियाई कर्मचारी अंदर और बाहर यात्रा कर सकें। सरकार का यह फैसला यह पर्यटकों को अनुमति देने की दिशा में भी काम करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button