कल है मां सरस्वती की आराधना का पावन पर्व बसंत पंचमी, जानें शुभ मुहूर्त

vasant panchami

नई दिल्ली। हिंदू धर्म में बसंत पंचमी का बहुत महत्तव है। हिंदू पंचांग के अनुसार, हिंदी महीने माघ के पांचवें दिन को हर साल बसंत पंचमी के रूप में मनाया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक बसंत पंचमी, इस साल 5 फरवरी को मनाया जाएगा।

बसंत पंचमी बसंत ऋतु के आगमन का संकेत है। ये त्योहार मां सरस्वती की आराधना का पर्व भी है। इस दिन शैक्षणिक संस्थानों के साथ ही घरों में भी मां सरस्वती की विधि-विधान से पूजा की जाती है।

बसंत पंचमी पूजा का शुभ मुहूर्त

इस बार बसंत पंचमी पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह के समय है। हिन्दू पंचांगों के अनुसार बसंत पंचमी मुहूर्त 5 फरवरी को सुबह 7:07 बजे से शुरू होगा और विशेष मुहूर्त दोपहर 12:35 बजे समाप्त होगा।

पूजा मुहूर्त की कुल अवधि साढ़े पांच घंटे की है। जबकि बसंत पंचमी तिथि 5 फरवरी को ही सुबह 3:46 बजे से शुरू हो जाएगी। पंचमी तिथि 24 घंटे बाद रविवार को 6 फरवरी सुबह 3:46 बजे समाप्त होगी।

सरस्वती पूजा और बसंत पंचमी के बीच संबंध

बसंत पंचमी को भारत में सरस्वती पूजा के रूप में भी जाना जाता है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार बसंत पंचमी के दिन ही देवी सरस्वती भगवान ब्रह्मा के मुख से ब्रह्मांड में ज्ञान का प्रकाश फैलाने के लिए प्रकट हुई थीं। इसलिए, बसंत पंचमी पर ज्ञान का वरदान देने के लिए ज्ञान की देवी सरस्वती से विशेष प्रार्थना की जाती है।

पीला रंग बसंत पंचमी का पर्याय है। बसंत पंचमी मनाने के लिए लोग विशेष रूप से पीले रंग के कपड़े पहनते हैं। पंजाब और राजस्थान में पतंगबाजी बेहद लोकप्रिय है।

पश्चिम बंगाल, बिहार और ओडिशा जैसे पूर्वी क्षेत्रों में, इस दिन को विशेष सरस्वती पूजा के रूप में चिह्नित किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button