सांसद नवनीत राणा ने कहा- हिंदुत्व के सिद्धांतों से भटक गई है शिवसेना

MP Navneet Rana

नई दिल्ली। मुंबई में हनुमान चालीसा को लेकर हुए बवाल के बाद गिरफ्तार अमरावती की निर्दलीय सांसद नवनीत राणा ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला को पत्र लिखकर गुहार लगाई है।

राणा ने पत्र में लिखा है कि शिवसेना मुख्यालय ‘मातोश्री’ के बाहर उनका हनुमान चालीसा पढ़ने का मकसद सीएम उद्धव ठाकरे को हिंदुत्व के प्रति जगाना था, धार्मिक तनाव फैलाना नहीं। राणा ने आरोप लगाया कि हिरासत के दौरान जब उन्होंने शौचालय जाने को कहा तो पुलिसकर्मियों ने उनके साथ अभद्र व्यवहार करते हुए अपशब्द कहे।

नवनीत राणा ने यह भी कहा कि उनका दृढ़ मानना है कि उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना हिंदुत्व के सिद्धांतों से पूरी तरह से भटक गई है, क्योंकि वह जनादेश को धोखा देना चाहती थी और कांग्रेस-एनसीपी के साथ चुनाव के बाद गठबंधन करना चाहती थी। ठाकरे ने हिंदुत्व के सिद्धांतों को धोखा दिया है।

सांसद राणा ने आरोप लगाया कि हिरासत के दौरान जब उन्होंने शौचालय के इस्तेमाल की मंशा जताई तो पुलिसकर्मियों ने ध्यान नहीं दिया। मुझे अपशब्द कहे गए और यह भी कहा गया कि हम नीची जाति, अनुसूचित जाति के लोगों को हमारे शौचालय का इस्तेमान नहीं करने देते।

लोकसभा स्पीकर को लिखे पत्र में राणा ने कहा कि सही बात यह है कि मैंने सीएम को भी हनुमान चालीसा के पाठ के लिए आमंत्रित किया था। मैं साफ कर रही हूं कि मेरा कार्यक्रम  मुख्यमंत्री के खिलाफ नहीं था।

उन्होंने यह भी लिखा कि जब मुझे समझ आया कि मेरे कार्यक्रम से मुंबई में कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है तो मैंने सार्वजनिक रूप से यह कार्यक्रम निरस्त करने की बात कही और एलान किया कि मैं सीएम के निवास पर नहीं जा रही हूं। इसके बाद भी मुझे व मेरे पति रवि राणा को मेरे घर में बंधक बनाकर रखा गया।

पीने का पानी तक नहीं दिया गया

सांसद राणा ने आरोप लगाया कि 23 अप्रैल को गिरफ्तारी के बाद मुझे खार पुलिस थाने ले जाया गया। मैंने पूरी रात थाने में बिताई। मैंने कई बार पीने का पानी मांगा, लेकिन मुझे रातभर पानी तक नहीं दिया गया।

उल्लेखनीय है कि शनिवार को नवनीत राणा व उनके पति रवि राणा ने मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने का एलान किया था। इसके विरोध में शिवसेना कार्यकर्ता मातोश्री के बाहर जमा हो गए थे। टकराव की आशंका के चलते पुलिस ने राणा दंपती को गिरफ्तार कर लिया था। बाद में दोनों को कोर्ट ने जेल भेज दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button