LIC के IPO ने तोड़ा रिकॉर्ड, आवेदनों की संख्या 5.9 मिलियन के पार

lic ipo

नई दिल्ली। भारतीय जीवन बीमा निगम के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) ने एक और रिकॉर्ड बनाया है। LIC के स्टॉक के लिए आवेदनों की संख्या रविवार को 5.9 मिलियन को पार कर गई।

भारत के पूंजी बाजार के आईपीओ के लिए पिछला रिकॉर्ड 2008 में अनिल अंबानी की रिलायंस पावर का था, जिसमें 4.8 मिलियन आवेदन किए गए थे।

एलआईसी का मेगा आईपीओ में आवेदनों की संख्या अंततः 6 मिलियन को पार कर जाएगा, जो अब तक का सबसे अधिक है। एलआईसी पॉलिसियों से जुड़े PAN की कुल संख्या 42.6 मिलियन हैं।

महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान से सबसे अधिक आवेदन

देश भर से आवेदनों में महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान का नाम सबसे ऊपर है। पिछले साल, ग्लेनमार्क लाइफ साइंसेज के ₹1,514 करोड़ के आईपीओ को 3.9 मिलियन से अधिक आवेदन प्राप्त हुए, जो रिलायंस पावर के बाद भारत के इतिहास में दूसरा सबसे बड़ा है।

विशेषज्ञों के मुताबिक डिस्काउंट फैक्टर को रिटेल इन्वेस्टर्स से भारी प्रतिक्रिया मिली है, जो ऑफर के वितरण से भी जुड़ा है। आईपीओ को अब तक 1.79 गुना अभिदान मिला है।

पॉलिसीधारकों की बोलियां अन्य सभी खंडों से 5.04 गुना आगे निकल गईं। कर्मचारियों और खुदरा निवेशकों के हिस्से को क्रमश: 3.79 गुना और 1.59 गुना अभिदान मिला।

उच्च निवल मूल्य वाले व्यक्तियों और योग्य संस्थागत खरीदार भागों ने क्रमशः 1.24 गुना और 0.67 गुना बोली लगाई। खुदरा निवेश के परिणामस्वरूप सोमवार को आईपीओ के सफल समापन की संभावना है। वहीं, वैश्विक अनिश्चितताओं को दर्शाते हुए योग्य संस्थागत निवेशक नहीं दिखे।

रिटेल सेगमेंट के तहत लोगों को 15 शेयर या गुणकों का लॉट साइज आवंटित किया जा सकता है। एक निवेशक प्रति आवेदन ₹2 लाख तक निवेश कर सकता है। खुदरा आवंटन का कुल आकार ₹8,000-9,000 करोड़ की सीमा में होगा।

खुदरा व्यक्तियों, पॉलिसीधारकों और कर्मचारियों के लिए कुल 92.9 मिलियन शेयर ऑफर पर हैं। जबकि ऐसे व्यक्ति प्रति शेयर ₹45 की छूट पाने के हकदार होंगे, यह पॉलिसीधारकों/कर्मचारियों के लिए ₹60 है। मूल्य बैंड ₹902-949 प्रति शेयर की सीमा में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button