आजमगढ़: कोविड-19 प्रबंधन के संबंध में बैठक संपन्न, एमएलसी ए.के. शर्मा ने अधिकारियों को दिए निर्देश

आजमगढ़।  कोरोना के द्वितीय लहर के बढ़ते संक्रमण के दृष्टिगत पूर्व आईएएस (पीएमओ) एमएलसी ए.के. शर्मा की अध्यक्षता में सर्किट हाउस के सभागार में कोविड-19 प्रबंधन के संबंध में बैठक संपन्न हुई।

एमएलसी ए.के. शर्मा ने कोरोना के संक्रमण को कम करने के संबंध में जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि जो सर्विलांस टीम व निगरानी समिति, आरआरटी टीम बनाई गई है, उसको रीऑर्गेनाइज करते हुए बराबर मानिटरिंग करते रहें।  उन्होंने कहा कि तहसीलवार जो कोविड कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है उन सभी में गाड़ी उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।

इसी के साथ ही उन्होंने आयुक्त आजमगढ़ मंडल को निर्देश दिया कि जनपद में जो भी मेडिकल दुकाने है उस पर कोरोना मेडिसिन किट तैयार कराकर उपलब्ध कराएं व उस कोरोना मेडिसिन किट का मूल्य निर्धारित कर ले, जिससे आम जनता को कोई भी कोरोना के लक्षण प्रतीत हो तो वह कोरोना की दवा अपने नजदीकी मेडिकल दुकान से निर्धारित मूल्य पर खरीद ले।

इसी क्रम में एमएलसी एके शर्मा ने जिलाधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद में जितने भी ग्राम पंचायतें हैं, उसको समस्त सीएचसी/पीएचसी के डॉक्टरों में विभाजित करके एक निश्चित संख्या में ग्रामों की जिम्मेदारी दे दे।  

उन प्रत्येक डॉक्टरों के साथ राजस्व विभाग के अधिकारी, आशा, एएनएम, डीसीपीएम आदि की टीम लगाएं।  उक्त डाक्टर अपनी टीम के साथ संबंधित ग्रामों में जाकर जो भी व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है, उसका उचित उपचार करेंगे, दवा का वितरण करेंगे, यदि कोई मरीज गंभीर है तो उसे संबंधित अस्पतालों में भिजवाना भी सुनिश्चित करेंगे।  इसी के साथ ही उक्त डॉक्टरों की बराबर मॉनिटरिंग भी करना सुनिश्चित करें।

एमएलसी एके शर्मा ने आयुक्त को निर्देश दिया कि राजकीय मेडिकल कॉलेज चक्रपानपुर में एक फ्रंट मैनेजमेंट डेस्क बनाया जाए, जिसमें डॉक्टरों व अधिकारियों की ड्यूटी लगाये।  किसी मरीज के पहुंचने पर फ्रंट मैनेजमेंट डेस्क के अधिकारी मरीज को सही सलाह देकर उनका इलाज कराएंगे।

उन्होंने जिलाधिकारी को निर्देश दिया कि ग्राम पंचायतों मे अनटाइड फंड आवंटित किए जाते हैं, उससे मेडिकल इक्विपमेंट क्रय करने व कोरोना मेडिसिन किट भी क्रय कराएं।

एमएलसी एके शर्मा द्वारा कोरोना मेडिसिन किट जनप्रतिनिधियों व प्रशासन को उपलब्ध कराया गया।  साथ ही जनप्रतिनिधियों से ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना के संक्रमण के बारे में भी जानकारी प्राप्त की।

जिलाधिकारी राजेश कुमार ने पीपीटी के माध्यम से कोविड-19 के बारे में विस्तार से बताया।  उन्होंने बताया कि कुल पॉजिटिव केस 10063, एक्टिव केस 4392, होम आइसोलेशन में 4034, कुल सैंपलिंग 157313 कराई गई है।  

आरआरटी 54, निगरानी समिति शहर क्षेत्र में 172 व ग्रामीण क्षेत्र में 1858 व सर्विलेंस टीम 3585 लगाई गई है।  इसी के साथ ही प्रत्येक ब्लॉक पर गाड़ी की व्यवस्था, 36 एंबुलेंस, 26 शव वाहन, 35 स्टैटिक बूथ बनाया गया है।

जिलाधिकारी ने बताया कि राजकीय मेडिकल कॉलेज मे 300 ऑक्सीजन बेड, 60 आईसीयू बेड, 100 शैया बेड  अतरौलिया में 100 ऑक्सीजन बेड, 4 आईसीयू बेड, लाइफ लाइन हॉस्पिटल में 100 ऑक्सीजन बेड, 5 आईसीयू बेड, रमा हॉस्पिटल में 70 अक्सीजन बेड, 02 आईसीयू बेड, वेदांता हॉस्पिटल में 50 ऑक्सीजन बेड, 4 आईसीयू बेड  व साईं अस्पताल में 60 ऑक्सीजन बेड व 06 आईसीयू बेड, इस प्रकार 880 ऑक्सीजन बेड व 97 आईसीयू बेड की व्यवस्था की गई है।

साथ ही रेलवे व बस स्टैंड पर कोरोना के जांच हेतु 7 टीम लगाई गई है एवं जिले पर 01, समस्त तहसीलों में 07, ग्राम पंचायतों में 1858 क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है।

इस अवसर पर आयुक्त आजमगढ़ मंडल आजमगढ़ विजय विश्वास पंत, जिलाधिकारी राजेश कुमार, पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार सिंह, एसपी ट्रैफिक सुधीर जायसवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर एके मिश्रा, राजकीय मेडिकल कॉलेज चक्रपानपुर के प्रधानाचार्य, एसीएमओ डॉ वाईके राय आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button