पीएम मोदी को जी-7 मीटिंग में शामिल होने का न्योता देकर बड़ा दांव चलेगा जर्मनी

PM modi in germany

बर्लिन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने तीन दिन की यूरोप यात्रा के पहले चरण में आज जर्मनी पहुंचे हैं। आज ही उनकी मुलाक़ात जर्मनी के चांसलर ओलाफ शोल्ज से होगी।

इस मीटिंग में कारोबारी संबंधों के अलावा रणनीतिक मसलों पर भी चर्चा होने वाली है लेकिन अहम बात यह है कि जर्मन चांसलर की ओर से पीएम नरेंद्र मोदी को जी-7 मीटिंग में स्पेशल गेस्ट के तौर पर शामिल होने के लिए निमंत्रित किया जा सकता है।

यह मीटिंग 26 से 28 जून के दौरान होने वाली है। माना जा रहा है कि रूस के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक बड़ा गठबंधन करने की जर्मनी की यह एक कोशिश है। इस बार जर्मनी जी-7 मीटिंग की अध्यक्षता करने वाला है।

इस जी-7 मीटिंग में इंडोनेशिया, साउथ अफ्रीका और सेनेगल के नेता भी शामिल रहेंगे। पीएम नरेंद्र मोदी को आमंत्रण का ऐलान जल्दी ही जर्मनी की ओर से किया जा सकता है।

कुछ दिन पहले ऐसी खबरें थीं कि जर्मनी इस बात को लेकर पसोपेश में है कि पीएम  नरेंद्र मोदी को जी-7 समिट में गेस्ट के तौर पर आमंत्रित किया जाए या नहीं।

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि यूक्रेन पर हमले के बाद भी रूस की निंदा न करने और उससे तेल का आयात करने के बाद जर्मनी भारत को आमंत्रित करने को लेकर पसोपेश में है। हालांकि जर्मन सरकार के सूत्रों ने ऐसी खबरों को खारिज कर दिया था।

भारत के साथ करीबी रिश्ते क्यों चाहता है जर्मनी

ओलाफ शोल्ज मानते हैं कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और रूस को अकेला करने में वह अहम हो सकता है। इसके अलावा ओलाफ शोल्ज चाहते हैं कि भारत और जर्मनी के बीच क्लाइमेट चेंज एवं डिफेंस सेक्टर में रिश्ते मजबूत होने चाहिए। रूस को अकेला करने के लिए भी जर्मनी भारत के साथ करीबी संबंध रखने और कारोबार को बढ़ावा देना चाहता है।

पीएम नरेंद्र मोदी और ओलाफ शोल्ज की मीटिंग दौर में भारत से जर्मनी जाने वाले लोगों को वीजा नियमों में ढील देने पर विचार किया जा सकता है। इसके अलावा भारत को टेक्नोलॉजी ट्रांसफर पर भी बात होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button