Qatar: 8 पूर्व नौसैनिकों के मौत की सजा पर रोक, भारत की कुटनीतिक जीत

Qatar Dahra Global Case: कतर में 8 भारतीयों की मौत की सजा पर रोक लगा दी गई है। कतर में बंद 8 पूर्व नौसेनिकों को राहत मिली है। कतर में गुरुवार को सुनवाई के दौरान भारत के राजदूत और अन्य अधिकारी परिवार के सदस्यों के साथ कोर्ट में उपस्थित थे।

इमेज क्रेडिट-सोशल मीडिया प्लेटफार्म

कतर की जेल में बंद 8 भारतीय नौसैनिकों की सजा पर रोक लगा दी गई है। पूर्व में कतर की एक अदालत की ओर से इन्हें मौत की सजा सुनाई गई थी। भारतीय विदेश मंत्रालय के हस्तक्षेप के बीच कोर्ट की ओर से यह फैसला आया है। गुरुवार अदालत में पीड़ित परिवार के सदस्यों के साथ भारतीय राजदूत और अधिकारी भी मौजूद थे।

भारतीय विदेश मंत्रालय के हवाले से कहा गया है कि हम इस मामले को कतर अधिकारियों के समक्ष भी उठाना जारी रखेंगे। इस मामले की कार्यवाही की गोपनीयता और संवेदनशील के कारण, इस समय कोई और टिप्पणी करना उचित नहीं होगा।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि सजा कम किए जाने पर विस्तृत फैसले का इंतजार कर रहे हैं। कतर के अधिकारियों के साथ बातचीत करते रहेंगे। कतर में इंडियन नेवी के जिन 8 पूर्व अधिकारियों को मौत की सजा दी गई थी उसमें कैप्टन बीरेंद्र कुमार वर्मा, कैप्टन नवतेज सिंह गिल, कैप्टन सौरभ वशिष्ट, कमांडर पुर्णेंदू तिवारी, कमांडर सुगुनाकर पकाला, कमांडर संजीव गुप्ता और नाविक रागेश शामिल हैं।

बता दें कि भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी पिछले साल अगस्त के महीने से ही कतर की जेल में बंद हैं। इन 8 पूर्व अधिकारियों को कतर की एक अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी। इस फैसले पर भारत सरकार की ओर से हैरानी व्यक्त की गई थी।

Back to top button