दुनिया के रहने और काम करने लायक देशों में भारत ख़राब पोजीशन पर, जानिए कौन है BEST देश

india gate delhi

बर्लिन। विदेशी मूल के लोगों (एक्सपैट) की पसंद पर आधारित एक सूचकांक ‘एक्सपैट इनसाइडर-2021’ के के अनुसार काम करने और बसने लायक देशों की वैश्विक सूची में भारत 51वें स्थान पर है।

सूची में 59 देशों के मुकाबले भारत को 51वां स्थान मिला है। भारत की इस स्थिति के लिए कोरोना काल की स्थितियों को भी जिम्मेदार माना गया है।

यह सूचकांक अपने मूल देश को छोड़कर दूसरे देश को रहने व काम के लिए चुनने वालों की पसंद पर आधारित है जो हर साल जर्मनी का प्रतिष्ठित संगठन इंटरनेशंस ने जारी करती है।

सर्वे में 59 देशों के 12420 ऐसे लोगों (एक्सपैट) को शामिल किया गया जो उस देश के मूल निवासी नहीं थे। इन एक्सपैट से उस देश में जीवन की गुणवत्ता, आर्थिक खर्च, रोजगार, चिकित्सा तंत्र आदि के बारे में प्रश्न पूछकर उसके आधार पर रैकिंग दी गई।

भारत का 51वां स्थान

भारत में रहने वाले या रह चुके विदेशी लोगों ने कहा कि यहां वायु प्रदूषण, पानी और स्वच्छता जैसे बुनियादी ढांचे की स्थिति बहुत बुरी है। यही कारण है कि यहां रहना हमारे लिए कठिन रहा।

इसके अलावा उन्होंने स्वास्थ्य सुविधाओं की भी कमी की बात की। इन सबके बीच एक राहत देने वाली बात यह रही कि 82 प्रतिशत प्रवासियों ने भारत की वित्तीय स्थिति को बेहतर कहा और खुशी जाहिर की।

ताइवान लगातार तीसरी बार शीर्ष पर

कोरोना की लड़ाई में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाला ताइवान लगातार तीसरे साल एक्सपैट इनसाइडर 2021 सर्वे में शीर्ष पर रहा। एक्सपैट्स ने ताइवान में नौकरी की सुरक्षा और स्थानीय अर्थव्यवस्था की खुलकर प्रशंसा की।

Taiwan readies China OTT video block - Mobile World Live
ताइवान लगातार तीसरे साल शीर्ष पर

96 प्रतिशत लोगों ने ताइवान में मिलने वाली चिकित्सीय देखभाल की सराहना की तो 94 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे इसकी सामर्थ्य से काफी संतुष्ट हैं।

96 प्रतिशत प्रवासियों ने ताइवान की आबादी को विदेशी निवासियों के प्रति मित्रवत बताया। ताइवान के बाद मैक्सिको और कोस्टा रिका रहने और काम करने के लिए सबसे अच्छी जगह के रूप में दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे।

एक्सपैट्स ने कहा कि उन्हें दोनों देशों में बसना और दोस्त बनाना आसान लगा। सूची में मलेशिया ने चौथा और पुर्तगाल ने पांचवां स्थान हासिल किया। अमेरिका 34वें स्थान पर रहा।

कुवैत 7वीं बार सबसे पीछे

कुवैत के लिए इस सर्वेक्षण के परिणाम इससे बदतर नहीं हो सकते थे क्योंकि यह पिछले आठ वर्षों में सातवीं बार रहने और काम करने के लिए प्रवासियों के लिए सबसे खराब गंतव्य स्थान के लिए चुना गया। 47 प्रतिशत एक्सपैट्स ने कहा कि कुवैत रहने लायक नहीं है।

उधर खराब वित्तीय स्थिति के कारण इटली को दूसरे सबसे खराब स्थान का दर्जा मिला। 56 प्रतिशत एक्सपैट्स ने कहा कि इटली में स्थानीय करियर के अवसर बहुत खराब है। दक्षिण अफ्रीका को तीसरा सबसे खराब देश घोषित किया गया।

नंबर गेम

59 कुल देश सर्वे में शामिल

51 नंबर पर भारत

34 नंबर अमेरिका को मिला

7 बार कुवैत को मिला अंतिम स्थान

3 बार लगातार ताइवान रहा प्रथम

शीर्ष पांच देश

ताइवान

मैक्सिको

कोस्टा रिका

मलेशिया

पुर्तगाल

नीचे से शीर्ष पांच देश

कुवैत

इटली

दक्षिण अफ्रीका

रूस

मिस्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button