नार्थ कोरिया ने किया हाइपरसोनिक मिसाइल का सफल परीक्षण, यूएस नाराज़

NKorea claims second successful test of hypersonic missile

प्‍योंगयांग। डेमोक्रेटिक रिपब्लिक आफ कोरिया (डीपीआरके) यानी उत्तर कोरिया ने बुधवार को सफलतापूर्वक अपनी हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया है।

कोरियन सेंट्रल न्‍यूज एजेंसी ने गुरुवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा है कि ये मिसाइल अकादमी आफ डिफेंस साइंस द्वारा लान्‍च की गई।

जानकारी के मुताबिक इस मिसाइल ने 700 किमी दूर अपने टार्गेट पर सटीक निशाना लगाया। इससे पहले ये करीब 120 किमी की ऊंचाई तक गई। इस परीक्षण की सफलता ने उत्‍तर कोरिया ने नए फ्यूल सिस्‍टम की विश्वसनीयता को साबित किया है।

डीपीआरके के मुताबिक उनका ये दूसरा हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण था। इससे पहले उत्‍तर कोरिया ने सितंबर को ह्वासांग-8 का परीक्षण किया था।

एजेंसी ने ये भी कहा है कि इस परीक्षण से वैज्ञानिकों को हाइपरसोनिक मिसाइल सेक्‍टर में बड़ी सफलता हासिल हुई है।

एजेंसी की दी गई जानकारी के मुताबिक बेहद सर्द मौसम में इस मिसाइल का सफल परीक्षण ये भी दर्शाता है कि उनका नया फ्यूल सिस्‍टम काफी बेहतर है।

इस टेस्‍ट ने एक बार फिर से कोरियाई प्रायद्वीप समेत समूचे इलाके की सुरक्षा पर एक संकट पैदा कर दिया है। टेस्‍ट को लेकर अमेरिका भी काफी नाराज़ हो गया है।

टेस्‍ट की जानकारी मिलने के बाद अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने फोन पर जापान के विदेश मंत्री हयाशी योशीमाशा से बात की। उन्‍होंने उत्‍तर कोरिया द्वारा किए गए परीक्षण के मद्देनजर जापान को उनकी सुरक्षा का भरोसा भी दिलाया।

अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता नेड प्राइस ने एक प्रेस रिलीज करते हुए कहा कि अमेरिका जापान की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है।

दूसरी तरफ ब्लिंकन ने इस टेस्‍ट के लिए उत्‍तर कोरिया की कड़ी आलोचना की है। उन्‍होंने कहा है कि जापान काफी संकट में है। शिन्‍हुआ न्‍यूज एजेंसी ने भी डीपीआरके के हवाले से इस मिसाइल के सफल परीक्षण की जानकारी दी है।

आपको बता दें कि उत्‍तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के सत्‍ता में आने के बाद से ही उत्‍तर कोरिया ने अपने मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम को तेजी से आगे बढ़ाया है।

किम के सत्‍ता में आने के बाद उत्‍तर कोरिया ने कई मिसाइल परीक्षण किए हैं। किम खुद अमेरिका को लेकर तीखी बयानबाजी कर चुके हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button