सऊदी अरब में मंगलवार को नहीं नजर आया चांद, जानिए कब मनेगी भारत में ईद

ईद का चांद (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। दुनिया भर में मुस्लिम समुदाय ईद-अल-फितर के पवित्र त्योहार की तैयारी में जुटा है। सऊदी अरब में रमजान की 29 तारीख यानी मंगलवार को ईद का चांद नजर नहीं आया। लिहाजा 30वें रमजान का चांद देखते हुए गुरुवार को शावाल की पहली तिथि को ईद होगी।

सामान्य तौर पर सऊदी में चांद नजर आने के दूसरे दिन भारत में चांद रात की परंपरा रही है। उस लिहाज से भारत में शुक्रवार को ईद होगी। उलेमाओं ने मुसलमानों से बुधवार को ईद का चांद देखने की अपील की है।

ईद-उल-फितर का त्योहार चांद निकलने पर निर्भर करता है। इस वर्ष अगर चांद बुधवार 12 मई को निकलता है तो ईद-उल-फितर का त्योहार गुरुवार 13 मई को मनाया जाएगा। यदि चांद 13 मई को निकलता है, तो ईद-उल-फितर 14 मई दिन शुक्रवार को मनाया जाएगा।

दरअसल, इस्लामिक कैलेंडर चांद पर आधारित है। चांद के दिखाई देने पर ही ईद व अन्य प्रमुख त्योहार मनाए जाते हैं। रमजान के पवित्र माह का प्रारंभ चांद के देखने से होता है और इसका समापन भी चांद देखने से होता है। रमजान के 29 या 30 दिनों के बाद ईद का चांद दिखता है।

मान्यताओं के अनुसार, पैगंबर मुहम्मद साहब के नेतृत्व में जंग-ए-बद्र में मुसलमानों की जीत हुई थी। जीत की खुशी में लोगों ने ईद मनाई थी और घरों में मीठे पकवान बनाए गए थे। ईद-उल-फितर का प्रारंभ जंग-ए-बद्र के बाद से ही हुआ था।

ईद-उल-फितर के दिन लोग अल्लाह का शुक्रिया अदा करते हैं। उनका मानना है कि उनकी ही रहमत से वे पूरे एक माह तक रमजान का उपवास रख पाते हैं। आज के दिन लोग अपनी कमाई का कुछ हिस्सा गरीबों में बांट देते हैं। उनको उपहार में कपड़े, मिठाई और भोजन आदि देते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button