जर्मनी: रूस का समर्थन करने वालों को तलाश रही है पुलिस, होगी कारवाई

बर्लिन। जर्मनी में पिछले दिनों रूस के समर्थन में एक प्रदर्शन हुआ था, अब उस प्रदर्शन में शामिल लोगों की जर्मन पुलिस को तलाश है। जर्मन पुलिस का खास ध्यान उन लोगों पर है, जो ‘Z’ निशान बनाकर रूस के यूक्रेन पर हमले का सार्वजनिक रूप से समर्थन कर रहे हैं।

देश भर में ऐसे 140 से ज्यादा मामलों की जांच की जा रही है। जर्मनी के कई राज्यों में पुलिस ने यूक्रेन पर रूस के हमले का समर्थन संबंधी घटनाओं की जांच शुरू कर दी है। आरएनडी न्यूजपेपर ग्रुप ने इस बारे में खबर दी है।

अखबार के मुताबिक पूरे जर्मनी में ऐसे करीब 140 मामलों पर जांच शुरू हो चुकी है। इनमें से ज्यादातर मामले Z निशान के इस्तेमाल से जुड़े हैं। हाल ही में Z निशान और रूसी झंडे, जर्मनी में हुए प्रदर्शनों में दिखे हैं।

Z प्रतीक को रूसी हमले से जोड़कर देखा जाता है, जब रूसी सेना यूक्रेन में घुसी थी तो उनके वाहनों पर यह निशान देख गए थे। जर्मनी के कई राज्यों ने इस निशान के इस्तेमाल को ‘रूसी हमले की अवैध मदद’ की श्रेणी में रखा है।

सैक्सनी-अनहाल्ट प्रांत के आंतरिक मामलों के मंत्रालय ने कहा है, ‘रूसी हमले के इस प्रतीक को सार्वजनिक तौर पर दिखाना, जांच का आधार बन सकता है, अगर इसे रूसी हमले के समर्थन में पेश किया जाता है तो’ जर्मनी के सबसे ज्यादा आबादी वाले सूबे- नॉर्थ राइन वेस्टफालिया में रूसी समर्थन के 37 मामले जांच के दायरे में हैं।

दूसरी ओर, रूसी झंडा लहराने वालों ने कहा है कि वे युद्ध का समर्थन नहीं कर रहे, बल्कि रूसी भाषा बोलने वालों के साथ जर्मनी में हो रहे भेदभाव के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

अपराध और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अलग चीजें

जर्मनी के उत्तरी राज्य हैंबर्ग के न्याय मंत्री गेयोर्ग आइसनराइष ने जर्मन संविधान से मिली राय रखने की आजादी का बचाव करते हुए कहा जर्मनी में हर कोई अपनी राय रख सकता है, लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता वहीं खत्म हो जाती है, जहां से आपराध शुरू हो जाता है। हम अंतरराष्ट्रीय कानूनों के खिलाफ हो रहे अपराधों की माफी स्वीकार नहीं करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button