रामायण एक्सप्रेस: धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा, मिलेगी पांच सितारा सुविधा

रामायण एक्सप्रेस

नई दिल्ली। रामायण एक्सप्रेस एक बार फिर यात्रा के लिए प्रारंभ हो गई है। दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन से रविवार को यह ट्रेन 156 यात्रियों को लेकर रवाना हुई। यह विशेष ट्रेन पर्यटकों को प्रभु श्रीराम से जुड़े सभी महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों का भ्रमण और दर्शन कराएगी।

आईआरसीटीसी ने धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ‘देखो अपना देश’ पहल के तहत यह डीलक्स एसी टूरिस्ट ट्रेन चलाई है। सोमवार को यह ट्रेन अयोध्या पहुंचेगी जहां से रामायण यात्रा शुरू होगी।

अयोध्या से यात्री सड़क मार्ग से नंदीग्राम, जनकपुर, सीतामढ़ी के रास्ते नेपाल जाएंगे। इसके बाद फिर ट्रेन से यात्रा कर दक्षिण भारत में श्रीराम से जुड़े स्थलों का दर्शन करने के लिए रवाना होंगे। पहली बार आधुनिक सुविधाओं के साथ तैयार एसी पर्यटक ट्रेन इस धार्मिक यात्रा के लिए चलाई जा रही है।

पांच सितारा होटल से कम नहीं है ट्रेन का कोच

रामायण एक्सप्रेस को खासतौर से डिजाइन किया गया है। एसी कोच वाली ट्रेन में साइड वाले बर्थ को हटा कर यहां आरामदायक कुर्सी-टेबल लगाए गए हैं ताकि यात्री सफर का आनंद बैठ कर भी ले सके।

रामायण एक्सप्रेस

इसमें होटल की तरह यात्रियों को किट मिलेगी। अलग से शौचालय का भी निर्माण किया गया है। जिसमें नहाने का विशेष प्रबंध है। ट्रेन में दो डाइनिंग कोच तैयार किए गए हैं जहां गर्मागर्म और मनपसंद खाना यात्रियों को दिया जाएगा।

यात्रा का पहला पड़ाव अयोध्या में

रामायण एक्सप्रेस यात्रा का पहला पड़ाव प्रभु श्रीराम का जन्म स्थान अयोध्या होगा। जहां श्री राम जन्मभूमि मंदिर, श्री हनुमान मंदिर और नंदीग्राम में भरत मंदिर का दर्शन यात्रियों को कराया जाएगा। इसके बाद यात्रियों को सीतामढ़ी ले जाया जाएगा।

जहां जानकी जन्म स्थान और नेपाल के जनकपुर स्थित राम जानकी मंदिर का दर्शन यात्री करेंगे। नेपाल से लौटने के बाद ट्रेन का अगला पड़ाव भगवान शिव की नगरी काशी होगा। जहां से पर्यटक बसों के जरिये काशी के प्रसिद्ध मंदिरों सहित सीता समाहित स्थल, प्रयाग, श्रृंगवेरपुर और चित्रकूट जाएंगे।

चित्रकूट से यह ट्रेन नासिक पहुंचेगी, जहां पंचवटी और त्रयंबकेश्वर मंदिर का भ्रमण कराया जाएगा। नासिक से किष्किंधा नगरी हंपी, जहां अंजनी पर्वत स्थित श्री हनुमान जन्म स्थल और का दर्शन कराया जाएगा।

इस ट्रेन का अंतिम पड़ाव रामेश्वरम होगा। धनुषकोटी के दर्शन होंगे। रामेश्वरम से चलकर यह ट्रेन 17वें दिन 7500 किलोमीटर सड़क व रेल मार्ग का सफर तय कर वापस लौटेगी।

क्या है इस ट्रेन की खासियत

आधुनिक किचन कार के अलावा फुट मसाजर, मिनी लाइब्रेरी की सुविधा है। सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड, इलेक्ट्रॉनिक लॉकर और प्रत्येक कोच को सीसीटीवी कैमरे से लैस किया गया है। यात्रियों के लिए टूरिस्ट गाइड की भी सुविधा है।

12 दिसंबर को चलेगी दूसरी रामायण एक्सप्रेस

यात्रियों की मांग को देखते हुए आईआरसीटीसी ने दूसरी रामायण एक्सप्रेस भी चलाने का निर्णय लिया है। रेलवे अधिकारियों के अनुसार 12 दिसंबर को दूसरी ट्रेन रवाना होगी।

आईआरसीटीसी की वेबसाइट https://www.irctctourism.com पर ऑनलाइन बुकिंग यात्री करा सकेंगे। बुकिंग की सुविधा आधिकारिक वेबसाइट पर, पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button