कांग्रेस ने कराई थी मेरे दादा पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह की हत्या: इंदरजीत सिंह

inderjeet singh

नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति ज्ञानी ज़ैल सिंह के पोते सरदार इंदरजीत सिंह ने कांग्रेस पर सनसनीखेज आरोप लगते हुए कहा कि उनके दादा का जानबूझ कर एक्सीडेंट करवाकर उनकी हत्या कराई गई थी। इंदरजीत सिंह आज भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।

दिल्ली स्थित भाजपा के केंद्रीय कार्यालय में पार्टी के महासचिव और पंजाब के प्रभारी डॉ. दुष्यंत गौतम और केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इंदरजीत सिंह को अंगवस्त्र पहनाकर पार्टी में स्वागत किया और सदस्यता की पर्ची उन्हें दी।

इस मौके पर इंदरजीत सिंह ने कहा कि आज उनके स्वगीर्य दादा की मनोकामना वर्षों बाद पूरी हुई है। कांग्रेस ने उनकी वफादारी के बावजूद जैसा सलूक किया, उससे उनका दिल दुखा था।

उन्होंने कहा, ‘मेरे दादा जी चाहते थे कि मैं भाजपा में जाऊं। उन्होंने मुझे अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के पास आशीवार्द लेने भेजा था।”

इंदरजीत सिंह ने कांग्रेस नेतृत्व पर सनसनीखेज आरोप लगाया कि 1994 में उनके दादा और पूर्व राष्ट्रपति की कार का किसी साजिश के तहत जानबूझकर एक्सीडेंट कराया गया था। इसके बाद उपचार के दौरान उनका निधन हो गया था।

गौरतलब है कि ज्ञानी जैल सिंह राष्ट्रपति बनने के बाद भी जब कभी पंजाब के आसपास होते थे तो वह आनंदपुर साहिब जाना नहीं भूलते थे। 1994 में तख्त श्री केशगढ़ साहिब जाते समय उनकी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई।

उन्हें चंडीगढ़ पीजीआई अस्पताल इलाज के लिए ले जाया गया था, जहां उनका निधन हो गया था। ऑपरेशन ब्लू स्टार और डाक विधेयक सहित कुछ मुद्दों पर कांग्रेस के तत्कालीन नेतृत्व से उनके मतभेद थे।

उन्होंने कहा कि मैंने दिल्ली में उस समय के दिग्गज भाजपा नेता मदनलाल खुराना के साथ कई रैलियों में शामिल हुए लेकिन तब पार्टी की सदस्यता नहीं ली थी।

उन्होंने भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उनके आमंत्रण पर वह भाजपा में शामिल हुए हैं और पार्टी जो भी दायित्व देगी, वह उसे पूरी लगन से पूर्ण करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button