पीरियड्स के दौरान कम कर दें नमक का सेवन, हो सकती हैं ये समस्याएं

Painful Periods

पीरियड्स आने से पहले ही बहुत सारी समस्याएं शुरू हो जाती हैं। इन्हीं में से एक है सूजन और पेट फूलना। पीरियड ब्लोटिंग प्री मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम का ही एक लक्षण होता है।

अर्थात् आपको पीरियड्स आने के कुछ दिनों पहले अपना पेट भारी भारी और फूला फूला महसूस होने लगता है। यह एक से दो हफ्ते पहले भी हो सकता है।

इसके साथ ही आपको कुछ अन्य लक्षण जैसे पेट में दर्द और कमर में दर्द आदि भी देखने को मिल सकते हैं। पीरियड्स के बिलकुल शुरू में इसकी वजह से आप को बहुत तकलीफ हो सकती है और यह आप को मानसिक रूप से भी प्रभावित कर सकता है।

ऐसा आम तौर पर एस्ट्रोजन (estrogen) और प्रोजेस्ट्रॉन (progesterone) हार्मोन्स में बदलाव होने के कारण होता है।

इस दौरान आपको अपना पेट फूला हुआ महसूस हो सकता है क्योंकि शरीर में पानी और नमक का लेवल बढ़ जाता है।

ब्लोटिंग की समस्या को दूर करने के जरूरी टिप्स

1 अधिक नमक वाली चीजें न खाएं

अगर आप इस दौरान अधिक नमक वाली चीज खाएंगी, तो इससे आपके शरीर में वाटर रिटेंशन बढ़ सकता है।

जिससे खुद ही ब्लोटिंग होगी।

इसलिए अधिक नमक से युक्त चीजों को खाना अवॉयड करें।

2 पोटेशियम से युक्त चीजें ज्यादा खाएं

अगर आप पोटेशियम से युक्त चीज खाएंगी तो इससे ब्लोटिंग कम होगी और आपके शरीर से सोडियम लेवल भी कम होगा।

जिससे आपका यूरिन प्रोडक्शन भी बढ़ेगा।

इसके लिए आप पालक, शकरकंद, केले और एवोकाडो, टमाटर जैसी चीजें खा सकती हैं।

3 प्राकृतिक डायरेटिक्स

यदि आप पीरियड्स के दौरान होने वाली ब्लोटिंग से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो कुछ प्राकृतिक डायरेटिक्स का सहारा ले सकती हैं।

इससे यूरिन प्रोडक्शन बढ़ता है और वॉटर रिटेंशन कम होता है।

इसके लिए आप बहुत सी चीजों जैसे अनानास, आडू, खीरे, अदरक और लहसुन आदि को ट्राई कर सकती हैं।

4 अधिक से अधिक पानी पिएं

अपने आप को हाइड्रेटेड रखना पीरियड्स के दौरान होने वाली ब्लोटिंग को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है।

इससे आपका वॉटर रिटेंशन इंप्रूव होगा और किडनी अच्छे से काम कर सकेगी।

इसके लिए अधिक से अधिक पानी पिए

हालांकि इस बात को साबित करने के लिए किसी प्रकार का साइंटिफिक प्रमाण नहीं है।

5 नियमित रूप से एक्सरसाइज करें

स्टडीज के मुताबिक अगर आप नियमित रूप से एक्सरसाइज करती हैं तो इससे आपके पीएमएस के लक्षणों को नियंत्रित किया जा सकता है।

इसके लिए डॉक्टरों ने कम से कम एक हफ्ते में 2.5 घंटे एक्सरसाइज करने का सुझाव दिया है।

अंतिम बात

एक-दो दिन के लिए ब्लोटिंग होना आम है और यह पूरी तरह से सामान्य भी है।

अगर ब्लोटिंग आपके रोजाना के कामों को प्रभावित कर रही है तो अधिक असहज होने से बेहतर है कि आप डॉक्टर से बात करें।

कुछ सुझाव या दवाइयां लें।

इसके साथ ही आपको रिफाइंड कार्ब्स भी अधिक नहीं खाने चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button