सरकार के साथ और जनता के परिश्रम से आता है परिवर्तन: पीएम मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज गोवा के आत्मनिर्भर भारत स्वयंपूर्ण योजना के लाभार्थियों और हितधारकों से संवाद किया। सुबह 11 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी ने इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि जब सरकार का साथ और जनता का परिश्रम मिलता है तो कैसे परिवर्तन आता है, कैसे आत्मविश्वास आता है ये हम सभी ने स्वयंपूर्ण गोवा के लाभार्थियों से चर्चा के दौरान अनुभव किया।

पीएम मोदी ने कहा अब देश ने भी 100 करोड़ वैक्सीन डोज का आंकड़ा पार कर लिया है। इससे लोगों में, पर्यटकों में विश्वास बढ़ा है। इससे गोवा के टूरिज्म सेक्टर में नई ऊर्जा देखने को मिलेगी। गोवा में स्वदेशी और विदेशी दोनों पर्यटकों की आवाजही भी निश्चित रूप से बढ़ने वाली है।

प्रधानमन्त्री ने कहा मछली के व्यापार-कारोबार के लिए अलग मंत्रालय से लेकर मछुआरों की नावों के आधुनिकीकरण तक हर स्तर पर प्रोत्साहन दिया जा रहा है।

प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना के तहत भी गोवा में हमारे मछुआरों को बहुत मदद मिल रही है।उन्होंने कहा गोवा ने गरीबों और जरूरतमंदों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराने के 100 फीसद लक्ष्य को हासिल किया है।

पिछले 1-2 वर्षों में गोवा ने न केवल महामारी बल्कि कई चक्रवातों और बाढ़ का भी सामना किया है। गोवा के पर्यटन क्षेत्र को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, लेकिन राज्य सरकार और केंद्र सरकार ने लगातार राहत कार्य जारी रखा।

पीएम मोदी ने कहा लंबे समय तक गोवा में राजनीतिक स्वार्थ और राजनीतिक अस्थिरता ने राज्य को हानि पहुंचाई। बीते कुछ वर्षों में इस अस्थिरता को गोवा की समझदार जनता ने स्थिरता में बदला है।

मेरे मित्र स्वर्गीय मनोहर पर्रिकर जी ने गोवा को तेज विकास के जिस विश्वास के साथ आगे बढ़ाया, उसको प्रमोद जी की टीम पूरी ईमानदारी से नई बुलंदियां दे रही है। आज गोवा नए आत्मविश्वास से आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा गोवा में महिलाओं के लिए केंद्र सरकार की योजनाओं को जमीनी स्तर पर सफलतापूर्वक लागू किया जा रहा है। इन योजनाओं का भी विस्तार हो रहा है।

चाहे शौचालय हो, उज्जवला गैस कनेक्शन हो या फिर जनधन बैंक अकाउंट हो, गोवा ने महिलाओं को ये सभी सुविधाएं देने में बेहतरीन काम किया है।

गोवा का अर्थ है प्रकृति और पर्यटन, लेकिन आज इसका अर्थ विकास का नया माडल और सामूहिक प्रयासों का प्रतिबिंब भी है।

बता दें एक अक्टूबर 2020 को शुरू की गई गोवा की इस योजना के तहत राज्य सरकार स्वयंपूर्ण मित्र के रूप में अधिकारियों की नियुक्ति करती है,

वे पंचायत और नगर निगम क्षेत्र में जाकर लोगों से बात करते है और यह सुनिश्चित करते हैं कि विभिन्न सरकारी विभागों के समन्वय से सभी सरकारी योजनाओं का लाभ उन तक पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button