IPO के जरिए 45 हजार करोड़ रुपये जुटा सकती हैं ये 30 कंपनियां, जानिए डिटेल

IPO (Initial Public Offering)

नई दिल्ली। अक्टूबर-नवंबर के महीने में आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) के जरिए करीब 30 कंपनियां कुल 45,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटा सकती हैं।

मर्चेंट बैंकिंग सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए कहा कि जुटाई गई पूंजी का बड़ा हिस्सा टेक्नोलॉजी संचालित कंपनियों के खाते में जाएगा।

ये फर्म आईपीओ के जरिए जुटाएंगे धन

मर्चेंट बैंकिंग सूत्र के मुताबिक, आईपीओ के जरिए धन जुटाने वाली इन कंपनियों में पॉलिसीबाजार (6,017 करोड़ रुपये), एमक्योर फार्मास्युटिकल्स (4,500 करोड़ रुपये), नायका (4,000 करोड़ रुपये), सीएमएस इंफो सिस्टम्स (2,000 करोड़ रुपये), मोबिक्विक सिस्टम्स (1,900 करोड़ रुपये) शामिल हैं।

इसके अलावा नॉर्दर्न आर्क कैपिटल (1,800 करोड़ रुपये), इक्सिगो (1600 करोड़ रुपये), सैफायर फूड्स (1500 करोड़ रुपये), फिनकेयर स्मॉल फाइनेंस बैंक (1,330 करोड़ रुपये), स्टरलाइट पावर (1,250 करोड़ रुपये), रेटगेन ट्रैवल टेक्नोलॉजीज (1,200 रुपये) करोड़) और सुप्रिया लाइफसाइंस (1,200 करोड़ रुपये) भी समीक्षाधीन अवधि में अपने आईपीओ जारी कर सकती हैं।

Zomato के आईपीओ को मिला था 38 गुना सब्सक्रिप्शन

बता दें कि Zomato के IPO ने नई टेक कंपनियों को आईपीओ के लिए प्रोत्साहित किया है। जोमैटो के आईपीओ को 38 गुना सब्सक्रिप्शन मिला था।

बड़ी संख्या में आते रहेंगे IPO

एंजेल वन के उप-उपाध्यक्ष (इक्विटी रणनीतिकार) ज्योति रॉय कहते हैं, आमतौर पर जोमैटो जैसी कंपनियां निजी इक्विटी कंपनियों से धन जुटाती हैं और आईपीओ ने नए जमाने की टेक कंपनियों के लिए धन का एक नया स्रोत खोल दिया है।

ट्रू बीकन और जेरोधा के सह-संस्थापक निखिल कामत ने कहा कि अगर अगले 1-2 साल तक यह तेजी जारी रहती है, तो आईपीओ बड़ी संख्या में आते रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button