बाराबंकी: एंबुलेंस प्रकरण में मुख्तार अंसारी के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज

mukhtar ambulance case

बाराबंकी। वर्तमान में बांदा जेल में निरुद्ध पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ जनपद पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है। मुख्तार के खिलाफ बाराबंकी जिले में यह दूसरा मुकदमा है।

गैंगस्टर एक्ट के इस मुकदमे में मऊ, गाजीपुर, लखनऊ और प्रयागराज के 12 सदस्यों को भी नामजद किया गया है। यह सभी आरोपी बहुचर्चित एंबुलेंस प्रकरण में जेल भेजे जा चुके हैं। गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद के यूसुफपुर के मूल निवासी व मऊ के पूर्व विधायक मुख्तार अंसारी पर यह मुकदमा नगर कोतवाल सुरेश पांडेय ने लिखाया है।

उक्त प्रकरण में मऊ जिले के बलियामऊ मोड़ पर स्थित श्याम संजीवनी अस्पताल एंड रिसर्च सेंटर की संचालिका डा. अलका राय, डा. शेषनाथ राय, थाना सराय लखंसी के अहिरौली के राजनाथ यादव, ग्राम सरवां के आनंद यादव,

गाजीपुर जिले के मोहम्मदाबाद के मंगलबाजार यूसुफपुर के सुरेंद्र शर्मा, सैदपुर बाजार मुहल्ला रौजा के मो. शाहिद, फिरोज कुरैशी, अफरोज उर्फ चुन्नू, जफर उर्फ चंदा, सलीम, प्रयागराज के थाना करेली के वसिहाबाद सदियापुर के मो. सुहैब मुजाहिद और लखनऊ के वजीरगंज थाना के लारी हाता कालोनी का मो. जाफरी उर्फ शाहिद शामिल हैं।

क्या है एंबुलेंस प्रकरण

घटनाक्रम के अनुसार पंजाब जेल में निरुद्ध रहने के दौरान मुख्तार अंसारी न्यायालय जाने के लिए निजी एंबुलेंस यूपी 41 एटी 7171 प्रयोग करता था। यह एंबुलेंस बाराबंकी एआरटीओ में 21 मार्च 2013 में पंजीकृत कराई गई थी।

31 मार्च 2021 को मामला चर्चा में आने पर कोतवाली नगर पुलिस ने दो दिन बाद मऊ के श्याम संजीवनी अस्पताल की संचालिका डा. अलका राय पर जालसाजी का मुकदमा लिखा था।

दरअसल, यह एंबुलेंस बाराबंकी कोतवाली नगर के मुहल्ला रफीनगर के मकान नंबर 56 के पते पर पंजीकृत कराई गई थी। सत्यापन में यह पता ही गलत पाया गया था। यही नहीं इस एंबुलेंस का 31 जुलाई 2017 से फिटनेस तक नहीं हुई थी।

ऐसे में यह एंबुलेंस प्रदेश की सीमा पार करते हुए पंजाब में संचालित हो रही थी। जिसे सीओ नवीन सिंह पांच अप्रैल 2021 को पंजाब से वापस लेकर आए थे।

क्रमवार कार्रवाई

पुलिस ने दो अप्रैल 2021 को पहला मुकदमा जालसाजी का लिखा और करीब तीन माह बाद 04 जुलाई 2021 को सभी आरोपितों के खिलाफ न्यायालय में आरोप पत्र दाखिल कर दिया।

पुलिस की रिपोर्ट पर डीएम ने 24 मार्च 2022 को गैंगचार्ट पर अनुमोदन दे दिया और 25 मार्च को पुलिस ने गैंगस्टर का मुकदमा लिखा है।

इस सम्बन्ध में पुलिस अधीक्षक बाराबंकी अनुराग वत्स ने कहा जिले में इस वर्ष में अब तक कुल 31 गैंगस्टर के मुकदमे लिखे जा चुके हैं। इसमें मुख्तार अंसारी का मुकदमा भी शामिल है। मुकदमे के बाद पुलिस अब अग्रिम कार्रवाई करेगी।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button