आप सांसद द्वारा ब्लैक लिस्टिंग के आरोप निराधार, कोविड-19 संबंधी सामग्री निर्यात कर रही है POCT

poct services lucknow

लखनऊ। आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह द्वारा मेडिकल उपकरण बनाने वाली कंपनी पीओसीटी सर्विसेज के विषय में कही गई बातें निराधार व तथ्यहीन हैं। POCT ने संजय सिंह के सभी आरोपों का बिन्दुवार खंडन किया है।

दरअसल संजय सिंह ने लखनऊ में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पीओसीटी सर्विसेज को महाराष्ट्र सरकार के उपक्रम हैफकिन बायो फारमास्यूटिकल कॉ.लि. द्वारा ब्लैक लिस्ट कर दिया गया, जिसे POCT ने निराधार बताया है।

सांसद संजय सिंह

कंपनी ने कहा कि पीओसीटी सर्विसेज द्वारा हैफकिन से जेम (GeM) पोर्टल की शर्तों के अनुरूप ऑन-लाइन आर्डर दिये जाने का अनुरोध किया गया था।

इसके फलस्वरूप हैफकिन द्वारा समय से आपूर्ति न किये जाने का आरोप लगाते हुए मात्र 04 दिवसों में आपूर्ति आदेश को अपने पत्र संख्याः 7258/जेमपोर्टल/आरटीपीसीआर/एचबीपीसीएल/पीसी/20-21, दिनांक 18.09.2020 द्वारा निरस्त करते हुए अपने पत्र संख्याः-7257/जेमपोर्टल/आरटीपीसीआर/एचबीपीसीएल/ पीसी/20-21, दिनांक 18.09.2020 के द्वारा 03 वर्ष के लिए पी0ओ0सी0टी0 सर्विसेज को ब्लैकलिस्ट कर दिया गया था। हैफकिन द्वारा किये गये इस कार्य के कारण, पीओसीटी सर्विसेज ने उच्च न्यायालय की शरण ली।

पीओसीटी के अभय अग्रवाल ने बताया कि न्यायालय द्वारा समस्त तथ्यों का संज्ञान लेते हुए हैफकिन द्वारा दिनांक 18.09.2020 को निर्गत ब्लैकलिस्टिंग के आदेश पर रोक लगाते हुए अपने आदेश दिनांक 13.10.2020 (प्रति संलग्न) के द्वारा ब्लैकलिस्टंग के आदेश को पूर्ण रूप से उसके Effect and Operation को निष्प्रभावी कर दिया।

उच्च न्यायालय द्वारा निर्गत आदेश दिनांक 13.10.2020 के अनुसार पीओसीटी सर्विसेज पूर्व की भांति समस्त प्रकार की व्यावसायिक गतिविधियों को यथावत् करने के लिए अधिकृत है। वर्तमान में पी0ओ0सी0टी0 सर्विसेज सम्पूर्ण भारत वर्ष में कहीं भी ब्लैकलिस्ट नहीं है।

अभय अग्रवाल ने कहा पीओसीटी सर्विसेज देश की प्रथम ऐसी निर्माता कम्पनी है, जिसने कोविड-19 के परीक्षण किये जाने में प्रयुक्त होने वाली समस्त सामग्री जैसे- RT-PCRKit, RNA Extraction Kit, Magnetic and Column both, VTM Tube, Covid Antibody इत्यादि को निर्मित किया है,

जिसे आईसीएमआर ने न केवल मान्यता प्रदान की है अपितु अधिक से अधिक मात्रा में उसका क्रय भी किया गया है तथा कोविड-19 सामग्री का निर्यात भी किया जा रहा है।

उन्होंने कहा जैसा कि सभी अवगत हैं कि स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कोविड-19 तीसरी लहर माह अगस्त, 2021 से आने की सम्भावना है, जिसमें सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित होंगे।

बच्चों को कोविड-19 की तीसरी लहर से बचाने के लिए पीआईसीयू का निर्माण कराया जा रहा है, ऐसे में सांसद संजय सिंह को सभी के साथ मिलकर सहयोग करना चाहिए ना कि दोषारोपण करना चाहिए।

अभय अग्रवाल ने कहा सांसद संजय सिंह एक शासकीय व्यक्ति हैं और कोई शासकीय व्यक्ति किसी भी प्रकार से न्यायालय की अवमानना नहीं कर सकता।

संजय सिंह द्वारा प्रेस के सामने यह कहना कि पीओसीटी सर्विसेज ब्लैक लिस्ट कम्पनी है बिल्कुल निराधार है, क्योंकि न्यायालय ने अपने आदेश दिनांक 13.10.2021 के द्वारा हैफकिन बायो फारमास्यूटिकल कॉरपोरेशन लि0 महाराष्ट्र के ब्लैक लिस्टिंग आदेश को निराधार कर दिया था।

ऐसे में सांसद द्वारा किसी प्रतिष्ठित फर्म के ऊपर आरोप लगाना न्यायालय की घोर अवमानना है, इससे किसी भी सामान्य जन के ऊपर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है और उसको मानसिक क्षति का सामना करना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button