रिवरफ्रंट घोटाले में सीबीआई की 40 टीमों ने अलग-अलग स्थानों पर की छापेमारी

gomti riverfront lucknow

लखनऊ। पिछली सपा सरकार में हुए रिवरफ्रंट घोटाले में सीबीआई की 40 टीमों ने लखनऊ, गाजियाबाद और देहरादून सहित 17 जिलों व शहरों में छापेमारी की है। उप्र के अलावा सीबीआई ने पश्चिम बंगाल और राजस्थान में भी छापेमारी की है।

बता दें कि रिवरफ्रंट घोटाले में सीबीआई लखनऊ की एंटी करप्शन विंग ने रिवरफ्रंट घोटाले में करीब दर्जनों लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। यूपी में लखनऊ के अलावा, नोएडा, गाजियाबाद, बुलंदशहर, रायबरेली, सीतापुर, इटावा और आगरा में छापेमारी की गई है।

दरअसल, सपा सरकार में लखनऊ में गोमती नदी के किनारे रिवरफ्रंट बनवाया था। रिवरफ्रंट घोटाले के आरोप सपा सरकार पर लगते रहे हैं।

प्रदेश में 2017 में भाजपा सरकार आने पर मामले की जांच की बात कही गई थी जिसके बाद से कई अफसरों के खिलाफ अब तक एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। मामले में अब फिर से छापेमारी का दौर शुरू हो चुका है।

करीब 1500 करोड़ रुपये के इस घोटाले की जांच फिलहाल सीबीआई कर रही है। प्रवर्तन निदेशालय भी मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज कर जांच कर रहा है। राज्य सरकार ने चार साल पहले घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की संस्तुति की थी।

जांच के बाद गोमती नगर थाने में कई अधिकारियों के खिलाफ कमेटी ने एफआईआर दर्ज कराई थी। उसी एफआईआर को आधार बनाकर सीबीआई ने रिपोर्ट दर्ज की थी।

रिवर फ्रंट परियोजना में अकेले सिंचाई विभाग ने 800 से अधिक टेंडर जारी किए थे। इनमें नियमों को दरकिनार कर ठेकेदारों को काम दिया गया था।

उस समय लखनऊ खंड शारदा नहर के अधिशासी अभियंता रूप सिंह के खिलाफ सीबीआई को पर्याप्त सुबूत मिले थे। मामले में कुछ ही दिन पहले रूप सिंह की गिरफ्तारी की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button