LS Elections 2024: मां डिंपल के सपोर्ट में प्रचार के लिए आईं अदिति यादव, जानें क्या है मैनपुरी का समीकरण

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 की तारीखों का ऐलान हो चुका है और सभी राजनीतिक पार्टियां पूरे दम-खम के साथ चुनाव प्रचार में जुट गई हैं. समाजवादी पार्टी की नेता डिंपल यादव भी मैनपुरी में लगातार चुनाव प्रचार में जुटी हुई हैं. उनकी बेटी अदिति यादव को भी चुनाव प्रचार के दौरान उनके साथ देखा गया. डिंपल यादव को समाजवादी पार्टी ने मैनपुरी से लोकसभा टिकट दिया है.

Image Source :Social Media

डिंपल के ऊपर मुलायम सिंह यादव की विरासत बचाने की जिम्मेदारी है. इस क्षेत्र के लोग मुलायम सिंह को ‘दद्दा’ नाम से संबोधित करते थे. मैनपुरी सीट 1996 से समाजवादी पार्टी का गढ़ रही है. अखिलेश यादव की बेटी अदिति यादव को मैनपुरी में डिंपल यादव के साथ देखा गया. वह कुछ महिला कार्यकर्ताओं के साथ बैठी नजर आईं. अदिति इससे पहले अपने माता-पिता के पोस्ट शेयर करती रही हैं, लेकिन पहली बार उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान देखा गया है.

डिंपल के सामने मुलायम की विरासत बचाने की चुनौती
डिंपल यादव को समाजवादी पार्टी ने मैनपुरी सीट से दूसरी बार टिकट दिया है. मुलायम सिंह के निधन के बाद डिंपल ने इस सीट पर उपचुनाव जीता और मैनपुरी की मौजूदा सांसद हैं. हालांकि, उपचुनाव के प्रदर्शन को दोहराना डिंपल के लिए आसान नहीं होगा. माना जा रहा है कि राम मंदिर की लहर पूरे उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी का वोट बैंक कम कर सकती है. मैनपुरी के लोगों ने ही मुलायम को पहली बार संसद भेजा था. इसके बाद से लगातार समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार इस सीट से जीतते रहे हैं. तेज प्रताप और धर्मेंद्र यादव भी इस सीट से संसद बन चुके हैं.

मैनपुरी के समीकरण
मैनपुरी लोकसभा सीट में कुल 5 विधानसभा सीटें हैं. मैनपुरी, करहल, किशनी, भोगांव और जसवंत नगर. 2011 की जनगणना के अनुसार मैनपुरी जिले में 93.48 फीसदी हिंदू आबादी है. यहां यादव वोट निर्णायक भूमिका में रहते हैं. 2019 में यहां 17.2 लाख मतदाता थे. यूपी में मुस्लिम और यादव समुदाय को समाजवादी पार्टी का पारंपरिक वोटर माना जाता है. इस सीट पर मुस्लिम वोटर्स की संख्या कम है. हालांकि, यादव वोट बैंक और मुलायम सिंह के प्रभाव के चलते 2 दशक से इस सीट पर समाजवादी पार्टी का कब्जा रहा है.

Back to top button