उप्र चुनाव: जेल से ही निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में लड़ेंगे विधायक विजय मिश्रा

विधायक विजय मिश्रा

आगरा। आगरा सेंट्रल जेल में बंद विधायक विजय मिश्रा भदोही के ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र से पांचवी बार चुनावी ताल ठोकेंगे। इस बार वह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में होंगे।

मंगलवार को उनका नामांकन पत्र भरवाने की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए बेटी रीमा पांडेय एडवोकेट और करीब दो दर्जन लोग सेंट्रल जेल पहुंचे।

प्रस्तावकों श्याम नारायण प्रजापति, नंदलाल यादव, ब्रह्मदेव शर्मा, सुशील कुमार बिंद, लालमणि यादव ने दावा किया कि विजय मिश्रा पहले से अधिक मतों से जीतेंगे।

विजय मिश्रा की बेटी रीमा पांडेय एडवोकेट ने बताया कि वह सोमवार की देर रात को ही आगरा के लिए निकल लिए थे। यहां पर 20 प्रस्तावक, दो अधिवक्ता, एक नोटरी वाले और एक कैमरामैन सुबह 9 बजे आ गए थे। लगभग 12 बजे सभी लोग नामांकन की प्रक्रिया पूरी करने के लिए सेंट्रल जेल में दाखिल हुए।

सोमवार को विधायक विजय मिश्रा के अधिवक्ता हंसाराम शुक्ला एवं स्वामी प्रसाद मिश्रा की ओर से नामांकन के लिए अदालत में प्रार्थना पत्र दिया गया था। जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया।

अदालत ने आवेदन को स्वीकार करते हुए वरिष्ठ अधीक्षक केंद्रीय कारागार आगरा को आदेश दिया है कि वह जेल मैनुअल व भारत निर्वाचन आयोग की ओर से जारी दिशा निर्देशों के तहत आवेदक के नामांकन की औपचारिकता पूर्ण कराना सुनिश्चित करें।

न्यायालय ने उक्त आदेश को ईमेल के जरिए केंद्रीय कारागार आगरा वरिष्ठ अधीक्षक को भेजने के निर्देश दिए। इसके साथ ही अब विधायक का ज्ञानपुर विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ना तय हो गया था।

वर्ष 2020 से जेल में हैं विजय मिश्रा

विधायक विजय मिश्रा को अक्टूबर 2020 में चित्रकूट की जेल से आगरा केंद्रीय कारागार में स्थानांतरित किया गया था। उनको हाई सिक्योरिटी सेल में रखा गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button