कोविड की संभावित तीसरी लहर को लेकर आयोजित हुई वर्कशाप, मुख्य अतिथि रहे एमएलसी ए.के. शर्मा

एमएलसी ए.के. शर्मा

वाराणसी। भारत में कोरोना की दूसरी लहर के कमजोर पड़ने के बाद अब तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में राज्य सरकारें अपने-अपने स्तर पर तैयारियों में जुटी हैं।

इसी क्रम में कोविड की संभावित तीसरी लहर से निपटने की योजना के तहत गुरूवार की शाम Indian Academy of Pediatrics (IAP) एवं Academy of Pediatrics (AOP) वाराणसी द्वारा दो दिवसीय ऑनलाइन ट्रेनिंग वर्कशाप आयोजित हुई। इसमें UP व अन्य राज्यों से 100 से ज़्यादा लोग हाजिर रहे।

मुख्य अतिथि के रूप में एमएलसी ए.के. शर्मा ने लोगों को सम्बोधित किया। उन्होने बताया कि मई के महीने में वाराणसी सहित पूर्वांचल में IAP-AOP-IMA एवं मेडिकल कालेजों के बाल रोग विशेषज्ञों के साथ कई बार चर्चा के बाद एक प्लान तैयार किया गया था।

जिसमें बच्चों में संक्रमण की सम्भावना के मद्देनज़र उपचार का प्रोटोकॉल एवं SOP तैयार करना‚ सरकारी एवं निजी क्षेत्र के अस्पतालों को चिन्हित करके उनकी व्यवस्थाओं को और भी उपयुक्त बनाना;

ऐसे संक्रमण के उपचार में उपयोगी मेडिकल साधन-सामग्री एवं दवाएँ ख़रीदने के लिए समय से सरकारी तंत्र को सुझाव एवं मार्गदर्शन देना; स्वास्थ्य कर्मियों को इस विशेष बीमारी के विभिन्न पहलुओं पर मानसिक एवं तकनीकी रूप से तैयार करने के लिए ट्रेनिंग-जिसमें एक स्तर पर मास्टर ट्रेनर तैयार करना एवं फिर आम स्वास्थ्य कर्मी की ट्रेनिंग करना।

मानव एवं मशीन दोनों ही दृष्टि से विशेष ज़रूरतों को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों की ट्रेनिंग इस ऐक्शन प्लान का एक अति महत्वपूर्ण भाग था।

ट्रेनिंग वर्कशाप में वाराणसी सहित पूर्वांचल के सभी ज़िलों के व उप्र के अन्य कई ज़िलों के स्वास्थ्य अधिकारी एवं कर्मी शामिल हुए। Indian Medical Association (IMA) एवं मेडिकल कालेजों के डॉक्टर सहित अन्य राज्यों के कई विशेषज्ञ एवं प्रशिक्षार्थी भी शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button