रूस के खिलाफ UN के प्रस्ताव पर भारत पाकिस्तान ने वोटिंग से किया परहेज

रूस के समर्थन में साथ आए भारत और पाक

न्यूयार्क। भारत और पाकिस्तान कम से कम रूस-यूक्रेन मुद्दे पर तो एकमत दिखाई दे रहे हैं। दोनों देशों ने रूस के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के एक प्रस्ताव पर मतदान से परहेज किया है।

दरअसल दोनो देश उन 12 देशों में शामिल हैं, जिन्होंने यूक्रेन में “रूसी आक्रमण से उपजे संकट” को संबोधित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के एक प्रस्ताव पर मतदान से परहेज किया है। 47 सदस्यीय निकाय में इस प्रस्ताव के खिलाफ वोट करने वाले केवल दो देश चीन और इरिट्रिया हैं। 

बता दें कि यूक्रेन पर हमले को लेकर यूएन में रूस के खिलाफ लाए गए प्रस्तावों पर भारत ने पहले भी वोट करने से परहेज किया है।

इसी क्रम में भारत ने एक बार फिर से मतदान से पहले हुई चर्चा में भाग लिया और यूक्रेन में लोगों के मानवाधिकारों के सम्मान और संरक्षण का आह्वान किया साथ ही मानव अधिकारों के वैश्विक प्रचार और संरक्षण के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया।

यूएन के इस प्रस्ताव में यूक्रेन के कीव, खारकीव, चेर्निहाइव और सुमी शहरों में रूस द्वारा किए गए मानवाधिकारों के उल्लंघनों की जांच के वास्ते पहले से स्थापित जांच आयोग के लिए एक अतिरिक्त जनादेश की मांग की गई थी। हालांकि प्रस्ताव के पक्ष में 33 वोट पड़े जिससे इसे पारित कर दिया गया।

प्रस्ताव में रूस से अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों को उन लोगों तक निर्बाध पहुंच प्रदान करने का भी आग्रह किया गया है, जिन्हें युद्ध प्रभावित क्षेत्रों से दूसरी जगह “स्थानांतरित” कर दिया गया है और कथित तौर पर रूसी क्षेत्र में रह रहे हैं। मास्को का दावा है कि इन लोगों ने अपनी स्वतंत्र इच्छा से रूस में प्रवेश किया।

भारत ने मार्च में भी जांच आयोग की स्थापना के प्रस्ताव पर परिषद में मतदान से परहेज किया था। हालांकि, भारत ने बुका में नागरिकों की हत्याओं की निंदा की है और स्वतंत्र जांच के आह्वान का समर्थन भी किया है।

गौरतलब है कि चीन ने भी उस समय वोटिंग से परहेज किया था, लेकिन इस बार उसने यह कहते हुए प्रस्ताव के खिलाफ मतदान किया कि यह न तो संतुलित है और न ही उद्देश्यपूर्ण है यह केवल तनाव बढ़ाने वाला प्रस्ताव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button