उप्र: बहुप्रतीक्षित मंत्रिमंडल विस्तार में क्या ए.के. शर्मा बनाए जाएंगे डिप्टी सीएम?

CM Yogi Adityanath

लखनऊ। लगता है उप्र मंत्रिमंडल के बहुप्रतीक्षित विस्तार का समय आ गया है। यह संभावना इसलिए भी पुष्ट नजर आ रही क्योंकि राज्यपाल आनंदी बेन पटेल अपने मप्र के दौरे को निरस्त कर लखनऊ पहुंच गई हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राज्यपाल लखनऊ में अधिकारियों के साथ बैठक कर रही हैं। आज गुरुवार शाम को उनकी मुलाकात मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से भी हो सकती है।

कोरोना महामारी की दूसरी लहर में योगी सरकार के खिलाफ जनता के बीच फैले असंतोष व अपनी ही पार्टी भाजपा में सरकार व नेतृत्त्व में बदलाव को लेकर दबाव के बीच होने वाले इस मंत्रिमंडल विस्तार में किसकी लाटरी लगेगी और किसका पत्ता साफ़ होगा यह तो कुछ समय बाद पता चल ही जाएगा।

MLC a.k. sharma

इन सबके बीच प्रशासनिक अधिकारी से एमएलसी बने ए.के. शर्मा को कोई न कोई महत्त्वपूर्ण जिम्मेदारी मिलने की बात एक सुर से कही जा रही है। एमएलसी ए.के. शर्मा को लेकर भाजपा इसलिए भी गंभीर है क्योंकि एक तो उनका काम करने का तरीका दूसरे सीधे प्रधानमंत्री का वरदहस्त।

अंदरखाने तो चर्चा यह भी है कि पूर्व आईएएस व एमएलसी ए.के. शर्मा को डिप्टी सीएम बनाया जा सकता है। वहीं, केशव प्रसाद मौर्य को ओबीसी चेहरे के रूप में प्रदेश भाजपा की कमान सौंपते हुए अगले विधानसभा चुनाव में जाएगी।

गौरतलब है कि 19 मार्च 2017 को सरकार गठन के बाद 22 अगस्त 2019 को योगी सरकार ने मंत्रिमंडल विस्तार किया था। उस दौरान उनके मंत्रिमंडल में 56 सदस्य थे। कोरोना के चलते तीन मंत्रियों का निधन हो चुका है।

हाल ही में राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप की मौत हुई थी, जबकि पहली लहर में मंत्री चेतन चौहान और कमला रानी वरुण का निधन हो गया था। नियम के मुताबिक यूपी कैबिनेट में मंत्रियों की अधिकतम संख्या 60 तक हो सकती है।

मौजूदा समय में योगी सरकार के मंत्रिमंडल में 23 कैबिनेट मंत्री, 9 स्वतंत्र प्रभार मंत्री और 22 राज्यमंत्री हैं।इस तरह से यूपी सरकार में फिलहाल कुल 54 मंत्री हैं, इस लिहाज से 6 मंत्री पद अभी भी खाली है।

पंचायत चुनाव में मिली हार के बाद से भाजपा की चिंता अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बढ़ गई है। सूबे के विधानसभा चुनाव में महज 6 से 7 महीने का समय बाकी है।

उससे पहले सरकार और संगठन में व्यापक सुधार किये जाने हैं। इसीलिये मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा बार बार सामने आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button