डॉ. समीर त्रिपाठी ने दिए कोरोना से बचाव के टिप्स, इस दिन की पूजा को बताया बेहद खास

लखनऊ (उप्र)। मेधज टेक्नोकांसेप्ट प्रा. लि. के सीएमडी डॉ. समीर त्रिपाठी ने कोरोना वायरस से बचाव के उपाय बताएं है। एक वीडियो सन्देश में उन्होंने कहा कि इस बार का वायरस नाक के जरिए फेफड़ों व हृदय को संक्रमित कर रहा है।

डॉ. समीर त्रिपाठी ने कहा रात को नाक में आठ-आठ बूँद सरसों का तेल डालकर व नेति करके सोना है। इसके अलावा सुबह उठकर भी नेति करना है। साथ की मास्क पहनना, सैनेटाईजर का प्रयोग व बार-बार हाथों को धोते रहना है। उन्होंने यकीन दिलाया कि यदि आप यह काम करते रहेंगे तो कोई कोरोना असर नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि कोई क्या कह रहा है, हमारी सरकार क्या कह रही है, हमें किसी की आलोचना में नहीं पड़ना है जो जैसा करेगा वैसे कर्मगति पाएगा। हमें इस वक़्त मेधज को बचाना है। उससे जुड़े लोग, उनके परिवार स्वस्थ रहें प्रसन्न रहें।

कोरोना को हराने के लिए आध्यात्मिक शक्ति पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि हमारे इष्टदेव महादेव ने हमे एक ऐसा दिन दिया है जब उनकी पूजा का यदि एक प्रतिशत भी हमें मिल जाय तो सैकड़ों हजारों कोरोना हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते और वो है कल 11 मई का दिन यानि वैशाख अमावस्या का दिन।

उन्होंने कहा अमावस्या की तिथि हमारे पुरखों की तिथि होती है और परसों का नक्षत्र है भरिणी नक्षत्र। भरिणी का अर्थ है यमराज। भरिणी नक्षत्र यमराज का नक्षत्र है जो सर्वप्रथम सशरीर स्वर्गलोक गए थे और वार है मंगलवार।

मंगलवार का मतलब इस संवत्सर के राजा मंगल मंत्री मंगल और उस दिन सौभाग्य योग भी है। सौभाग्य योग के भगवान ब्रह्मा जी हैं। उन्होंने कहा जो शक्तियां हमारे देश को हमारे स्वास्थ्य को ख़राब करना चाहती है उनसे निपटने का दिन है वैशाख अमावस्या का दिन।

डॉ. समीर त्रिपाठी ने कहा इस दिन यमराज भी हमारी मदद करेंगे और इसके बाद आएगा अक्षय तृतीया का दिन जो ऐसा दिन है कि वैशाख अमावस्या को जो कुछ हमने पाया है उसे समर्पित करने का दिन। हमारे पितरों को जो कुछ पसंद था वह समर्पित करने का दिन है अक्षय तृतीया का दिन।

मेधज टेक्नोकांसेप्ट प्रा. लि. के डायरेक्टर गुंजन त्रिपाठी ने कहा कि सीएमडी डॉ. समीर त्रिपाठी के टिप्स को कंपनी से जुड़े सभी लोग फ़ॉलो करें क्योंकि वो अपने अध्ययन अपनी पूजा और अपने के मंथन से जो अमृत निकाल कर लाते हैं वो हम सभी को सुखी, स्वस्थ व खुश करने के लिए होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button