भारतीय अमेरिकी वनिता गुप्ता बनीं एसोसिएट अटार्नी जनरल, सीनेट ने दी मंजूरी

vanita gupta

वाशिंगटन। ओबामा प्रशासन के दौरान जस्टिस डिपार्टमेंट में अपनी सेवा दे चुकी भारतीय मूल की वनिता गुप्ता को एसोसिएट अटार्नी जनरल नियुक्त किया गया है। उनके नाम पर अमेरिकी सीनेट में स्थानीय समयानुसार बुधवार को मुहर लगाई गई।

बता दें कि इस पर पर नियुक्त होने वाली पहली भारतीय मूल की नागरिक होने का सम्मान भी वनिता को ही मिल रहा है। CNN के अनुसार, वनिता गुप्ता के नाम पर सीनेट में वोटिंग हुई और  51-49 के अंतर से उनके नाम को मंजूरी मिली है। 

रिपब्लिकन लिसा मुर्कोव्स्की (Lisa Murkowski ) ने बाइडन के उम्मीदवार के पक्ष में अपना वोट दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि वनिता गुप्ता निजी तौर पर अन्याय का मुकाबला करने के लिए प्रतिबद्ध रही हैं।

वोटिंग से पहले राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा था कि उन्होंने ‘बहुत ही दक्ष और सम्मानित’ भारतीय मूल की वकील वनिता गुप्ता को नामित किया है, जिन्होंने अपना पूरा करियर नस्लीय समानता और न्याय की लड़ाई में लगाया है।

राष्ट्रपति बाइडन ने कहा,’मैंने न्याय विभाग में दो अहम पदों के लिए वनिता गुप्ता और क्रिस्टेन क्लॉर्क को नामित किया जो बहुत ही दक्ष और सम्मानित वकील हैं और जिन्होंने अपना पूरा करियर नस्लीय समानता और न्याय की लड़ाई में लगाया है।’

अमेरिकी सीनेट में वनिता गुप्ता के नाम पर वोटिंग पिछले सप्ताह ही होना था लेकिन रिपब्लिकन की ओर से इसका विरोध किया गया था क्योंकि रिपब्लिकनों की आलोचना करते हुए हाल में ही वनिता गुप्ता ने कुछ ट्वीट किए थे। 

उल्लेखनीय है कि अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट में तीसरा सबसे ऊंचा पद एसोसिएट अटॉर्नी जनरल का होता ह। इस डिपार्टमेंट में एसोसिएट अटॉर्नी जनरल के तौर पर वनिता गुप्ता नागरिक अधिकारों के काम की निगरानी में अहम भूमिका निभाएंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button