आपको बेहद सशक्त महसूस करवा सकता है यौन सुख, जानें ये 5 टिप्स

sex

पहली डेट पर सेक्स करना है या नहीं, ये आपकी चॉइस है। डेट पर सेक्स करना है या नहीं, ये भी आपकी चॉइस है। डेटिंग सीन पर आना, साथी ढूंढना और यौन संबंध हमारे जीवन की यात्रा का हिस्सा हैं।

हाल ही में एक सर्वेक्षण किया गया है कि पहली डेट पर लोगों के सेक्स करने की कितनी संभावना है?

हमारे समाज में सेक्स एक वर्जित विषय है।

इसलिए ज्यादातर लोग इस सर्वेक्षण में भाग लेने के लिए काफी शर्मा रहे थे। लेकिन जो प्रतिक्रियाएं आईं, वह काफी आकर्षक थीं।

पुरुषों ने पहली डेट पर सेक्स करने में कोई समस्या नहीं जताई मगर कई महिलाओं ने कहा कि वे हिम्मत नहीं करेंगी।

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि जब महिलाओं की बात आती है, तो सेक्स के बारे में गलत जानकारी के कारण बहुत सी समस्याएं आती हैं।

सच कहा जाए, तो यौन सुख आपको बेहद सशक्त महसूस करवा सकता है और आप अपने यौन जीवन को कैसे नेविगेट करती हैं, यह आप पर निर्भर है।

इन 5 टिप्स की मदद से आपकी यौन सशक्तीकरण यात्रा की शुरुआत हो सकती है

1. अपनी तरह ही दूसरों को आंकते हैं

हमारे सर्वेक्षण के अनुसार, कई महिलाओं ने ‘नहीं’ कहा, क्योंकि पहली डेट को सेक्स उन्हें “Slut” बना देगा।

पहली डेट पर सेक्स करने से आपको शर्मिंदगी महसूस नहीं होनी चाहिए।

हालांकि, सही समय की प्रतीक्षा करना एक विकल्प हो सकता है।

अगर कोई सेक्सुअल स्पार्क नहीं है, तो यह कभी भी काम नहीं करेगा।

कल्पना कीजिए कि 5 से 6 सप्ताह या शादी तक किसी पर समय और ऊर्जा का निवेश करना और फिर बिस्तर पर जाना केवल यह पता लगाने के लिए कि कोई स्पार्क नहीं है, यह भावनाओं, समय और ऊर्जा की बर्बादी होगी।

विशेष रूप से एक महिला के रूप में।

इसलिए खुद के लिए शानदार सेक्सी निर्णय लें और वही करें जो आपको सही लगे।

2. इमोशनल कमिटमेंट

यह मानते हुए कि हम पहले से ही किसी से जुड़े हुए हैं, क्या हम ब्रेकअप के बाद और अधिक निराश होने वाले हैं?

क्या किसी से मिलने के 24 घंटे बाद या एक साल बाद ऐसा सोचना बुरा है?

अगर हम किसी के साथ यौन संबंध बनाने जा रहे हैं, तो क्या हम बिना किसी अपेक्षा के समय का आनंद ले सकते हैं? यह सोचने वाली बात है।

3. दोनों पक्षों के लिए यौन संतुष्टि महत्वपूर्ण है

सेक्स और अंतरंगता के फायदे दोनों को ही होने चाहिए, जहां प्रत्येक साथी को यौन सुख से लाभ हो।

अंतरंगता एक दो-तरफा रास्ता है।

ऐसा होने के लिए व्यक्ति को अपने बारे में जागरुक होना चाहिए।

केवल आप ही जानते हैं कि आपको किस समय क्या चाहिए।

क्या यह एक आलिंगन है, क्या यह भावनात्मक अंतरंगता है या आप केवल आनंद की तलाश में हैं?

सशक्त होने का मतलब गिल्ट या शर्म महसूस किए बिना अपने लिए सही चुनाव करना है।

जिस व्यक्ति को आप वास्तव में अपने अस्तित्व और समय के योग्य समझती हैं, उसके साथ सेक्स और अंतरंगता का आनंद लेने में कुछ भी गलत नहीं है।

4. सेक्स या इंटिमेसी

जितनी जल्दी हम इस विचार से सहज हो जाते हैं कि इंटिमेसी में सेक्स शामिल हो सकता है,

लेकिन सेक्स में हमेशा इंटिमेसी शामिल नहीं होती है, हम बेहतर विकल्प चुन सकेंगे।

इंटिमेसी शारीरिक हो सकती है लेकिन आध्यात्मिक, बौद्धिक या भावनात्मक रूप से भी प्रकट हो सकती है।

हमारी घनिष्ठता हमारे परिवार के सदस्यों के साथ-साथ हमारे सामाजिक नेटवर्क तक भी विस्तारित हो सकती है।

पहली डेट पर कैज़ुअल सेक्स या इंटीमेट सेक्स करना आपकी पसंद है। इसमें घबराने या शर्माने की कोई आवश्यकता नहीं है।

5. खुशी कोई गंदा शब्द नहीं है

अपने आप से पूछें कि सेक्स को क्यों टैबू माना जाता है?

क्या यह नियंत्रण का एक रूप है?

क्या यह सिर्फ एक धार्मिक विश्वास है?

अंतत: यह आपकी पसंद है कि आप कैज़ुअल सेक्स करें, लेकिन आपको अपनी ऊर्जा के प्रति सचेत रहना चाहिए।

वास्तव में, फर्स्ट-डेट सेक्स आपके यौन आत्मविश्वास के लिए काफी अच्छा हो सकता है।

सेक्स, इंटिमेसी और रिश्ते सभी मानवीय अनुभवों का हिस्सा हैं।

हमें खुद के इस हिस्से को अपनाने में सक्षम होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button